You are currently viewing शंख बजाने का नियम – Rules And Benefits of Conch Shell

शंख बजाने का नियम – Rules And Benefits of Conch Shell

हिंदू धर्म में पूजा-पाठ में शंख बजाना काफी Rules And Benefits of Conch Shell जरूरी माना जाता है। पूजा-पाठ के साथ हवन, अनुष्ठान, विवाह, गृह-प्रवेश कई शुभ कार्यों के दौरान शंख बजाया जाता है। शंख को यश, सुख-समृद्धि और शुभता का प्रतीक माना गया है। इसका इतना महत्व है कि शंख बजाए बिना पूजा अधूरी मानी जाता है। हालांकि, लोगों को यह नहीं पता होता कि शंख को बजाने के कुछ नियम भी होते हैं तो आइए जानते हैं कि शंख बजाने से लेकर इसको रखने के क्या नियम होते हैं।

Rules And Benefits of Conch Shell

हिंदू धर्म में शंख में मां लक्ष्मी का वास माना गया है। मान्यता है कि पूजा के बाद नियमित रूप से शंख को बजाने से घर की नकारात्मक ऊर्जा दूर होती है और गृह-क्लेश से छुटकारा मिलता है। मां लक्ष्मी के साथ-साथ भगवान विष्णु का आशीर्वाद भी मिलता है। घर में शंख बजाते समय कुछ बातों का ध्यान रखना बेहद जरूरी है।

शंख बजाने का नियम - Rules And Benefits of Conch Shell
Rules And Benefits of Conch Shell

शंख बजाने का नियम – Rules And Benefits of Conch Shell

दो शंख का इस्तेमाल

अक्सर लोग अपने घरों में एक शंख रखते हैं, लेकिन घरों में दो शंख होने चाहिए। एक शंख में जल भरकर रखना चाहिए और दूसरे का इस्तेमाल बजाने के लिए किया जाना चाहिए। शंख को सुबह और शाम के वक्त पूजा के समय बजाना चाहिए।

भगवान शंकर की पूजा

भोलेनाथ की पूजा कर रहे हैं तो कभी शंख नहीं बजाना चाहिए। इसके साथ ही भगवान शिव का अभिषेक शंख में जल भरकर नहीं करना चाहिए। पूजा के बाद हमेशा शंख को धोकर रखना चाहिए। इसको कभी भी झूठा मंदिर में नहीं रखना चाहिएv ऐसा करने से भगवान की कृपा प्राप्त नहीं होती है।

शंख बजाने का नियम - Rules And Benefits of Conch Shell
Rules And Benefits of Conch Shell

शंख का महत्व

शास्त्रों के अनुसार, समुद्र मंथन के दौरान शंख की उत्पत्ति हुई थी जो चौदह रत्नों में से एक माना जाता है। इसलिए शंख को माता लक्ष्मी का भाई माना जाता है। इसी कारण इसका संबंध भगवान विष्णु से है।

धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, शंख को भगवान विष्णु के शस्त्रों में से एक माना जाता है। भगवान विष्णु के हाथों में चक्र, गदा, कमल का फूल और शंख होता है। इसलिए कहा जाता है कि जिस घर में शंख वादन किया जाता है तो इसकी ध्यान से भगवान विष्णु आकर्षित होकर घर में सकारात्मक ऊर्जा का प्रवाह करते हैं।

शंख बजाने के नियम (Rules Of Conch)

शंख बजाने का नियम - Rules And Benefits of Conch Shell
Rules And Benefits of Conch Shell

– अगर आपने घर में शंख रखा हुआ है तो एक नहीं बल्कि 2 शंख लेकर रखें. बजाने के लिए एक शंख और दूसरा शंख अभिषेक करने के लिए रखें।

– भगवान की पूजा करने वाले शंख को भूलकर भी न बजाएं. ऐसा करने से वे झूठा हो जाता है।

–  वहीं, बजाने वाले शंख से कभी पूजा नहीं करनी चाहिए।

– पूजा घर में एक ही शंख रखें, जो कि पूजा के लिए होता है।

– दूसरा शंख पूजा घर या मंदिर के आसपास सफेद रंग के कपड़े में लपेट कर रखें।

– मान्यता है कि भगवान विष्णु को शंख से जल अर्पित करना शुभ होता है। लेकिन भगवान शिव और सूर्य देवता को भूलकर भी शंख से जल अर्पित न करें।

शंख बजाने का नियम - Rules And Benefits of Conch Shell
Rules of Conch Shell

– शंख को बजाने से पहले गंगाजल से धो लें और अगर गंगाजल उपलब्ध नहीं है, तो पानी का इस्तेमाल भी कर सकते हैं।

– पूजा वाले शंख में हमेशा जल भर कर ही रखें। नियमित रूप से पूजा के बाद घर में इस जल का छिड़काव करें। इससे सकारात्मक ऊर्जा का वास होता है और सुख-समृद्धि बनी रहती है।

–  शंख बजाने से पहले एक बार गंगाजल से उसे धो जरूर लेना चाहिए। अगर गंगाजल नहीं है तो आप पानी का इस्तेमाल कर सकते हैं।

–  पूजा वाले शंख में हमेशा जल भर कर रखना चाहिए। रोजाना पूजा-पाठ करने के बाद पूरे घर में इस जल को छिड़कना चाहिए। इससे घर में सकारात्मक ऊर्जा बढ़ती हैं और सुख-शांति बनी रहती है।

–  कभी भी अपना शंख किसी को इस्तेमाल करने को नहीं देना चाहिए और न ही किसी दूसरे का इस्तेमाल करना चाहिए।
शंख को सुबह और शाम के समय बजाना चाहिए। इसके अलावा किसी अन्य समय नहीं बजाना चाहिए।

शंख बजाने के फायदे (Benefits of Conch)

शंख बजाने का नियम - Rules And Benefits of Conch Shell
Benefits of Conch Shell

1.शंख में रखें जल का छिड़काव घर में करने से नकारात्मक ऊर्जा दूर होती है और सकारात्मक ऊर्जा (Positive Energy) रहती है।

2.शंख की आवाज से आसपास का वातावरण शुद्ध हो जाता है।

3.ऐसी मान्यता है कि शंख की पूजा से मनोकामनाएं पूरी होती हैंv

4.शंख बजाने से दुष्ट आत्माएं पास नहीं फटकती हैं।

शंख बजाने का नियम - Rules And Benefits of Conch Shell
Benefits of Conch Shell

5.शंख को देवी लक्ष्मी (Goddess Lakshmi) की मूर्ति या तस्वीर के पास शंख रखने से घर में सुख, समृद्धि और वैभव आता है।

6.रोज शंख बजाने से दिमाग में खून का संचार ठीक से होता है और इससे स्ट्रेस (Stress) लेवल कंट्रोल में रहता है।

7.वास्तुशास्त्र के अनुसार शंख को घर की कमजोर दिशा में रखने से यश, कीर्ति और उन्नति की प्राप्ति होती है।

8.कहते हैं कि शंख को घर की उत्तर-पूर्व दिशा में रखने से शिक्षा में सफलता के योग बनते हैं।

9.शंख में रखे पानी को पीने से से हड्डियां (Bones) मजबूत होती हैं और दांत भी स्वस्थ रहते हैं।

1o.इस बात का ध्‍यान रखें कि शंख को घर में कहीं भी नहीं रखना चाहिए। शंख को लिविंग रूम में दक्षिण दिशा में रखें. ऐसा करने से हर जगह आपका नाम होगा।

 

 

 

Read More:

रुद्राक्ष पहनने के फायदे और नियम – Benefits and Rules of Wearing Rudraksha

शंख बजाने का नियम - Rules And Benefits of Conch Shell
Benefits and Rules of Wearing Rudraksha

 

 

 

 

RK16

Hi! I am Reshma.

Leave a Reply