You are currently viewing धृतराष्ट्र, पाण्डु और विदुर के जन्म की कथा – Story of Vidura’s Birth
Story of Vidura's Birth

धृतराष्ट्र, पाण्डु और विदुर के जन्म की कथा – Story of Vidura’s Birth

क्या आप जानते है महाभारत में पांडवो के पिता पाण्डु और कौरवो के पिता धृतराष्ट्र के जन्म की क्या कहानी है। अगर नहीं तो आज के इस आर्टिकल में हम आपको इनके जन्म की कहानी बताते है तो बने रहिये हमारे इस आर्टिकल के साथ अंत तक।

धृतराष्ट्र, पाण्डु और विदुर के जन्म की कथा –

धृतराष्ट्र, पाण्डु और विदुर के जन्म की कथा - Story of Vidura's Birth
Story of Vidura’s Birth

सत्यवती के चित्रांगद और विचित्रवीर्य नामक दो पुत्र हुए। शान्तनु का स्वर्गवास चित्रांगद और विचित्रवीर्य के बाल्यकाल में ही हो गया था इसलिये उनका पालन पोषण भीष्म ने किया। भीष्म ने चित्रांगद के बड़े होने पर उन्हें राजगद्दी पर बिठा दिया लेकिन कुछ ही काल में गन्धर्वों से युद्ध करते हुये चित्रांगद मारा गया। इस पर भीष्म ने उनके अनुज विचित्रवीर्य को राज्य सौंप दिया।

इसे भी पढ़े – महाभारत में पांडवो के जन्म की कथा – Story of Birth of Pandavas

भीष्म का योगदान –

अब भीष्म को विचित्रवीर्य के विवाह की चिन्ता हुई। उन्हीं दिनों काशीराज की तीन कन्याओं, अम्बा, अम्बिका और अम्बालिका का स्वयंवर होने वाला था। उनके स्वयंवर में जाकर अकेले ही भीष्म ने वहाँ आये समस्त राजाओं को परास्त कर दिया और तीनों कन्याओं का हरण कर के हस्तिनापुर ले आये। बड़ी कन्या अम्बा ने भीष्म को बताया कि वह अपना तन-मन राजा शाल्व को अर्पित कर चुकी है। उसकी बात सुन कर भीष्म ने उसे राजा शाल्व के पास भिजवा दिया और अम्बिका और अम्बालिका का विवाह विचित्रवीर्य के साथ करवा दिया। राजा शाल्व ने अम्बा को ग्रहण नहीं किया अतः वह हस्तिनापुर लौट कर आ गई और भीष्म से बोली आप मुझे हर कर लाये हैं अतः आप मुझसे विवाह करें। किन्तु भीष्म ने अपनी प्रतिज्ञा के कारण उसके अनुरोध को स्वीकार नहीं किया।

धृतराष्ट्र, पाण्डु और विदुर के जन्म की कथा - Story of Vidura's Birth
Story of Vidura’s Birth

अम्बा रुष्ट हो कर परशुराम के पास गई और उनसे अपनी व्यथा सुनाई। परशुराम ने अम्बा से कहा, हे देवि आप चिन्ता न करें, मैं आपका विवाह भीष्म के साथ करवाउँगा। परशुराम ने भीष्म को बुलावा भेजा किन्तु भीष्म उनके पास नहीं गये। इस पर क्रोधित होकर परशुराम भीष्म के पास पहुँचे और दोनों वीरों में भयानक युद्ध छिड़ गया। दोनों ही अभूतपूर्व योद्धा थे इसलिये हार-जीत का फैसला नहीं हो सका। आखिर देवताओं ने हस्तक्षेप कर के इस युद्ध को बन्द करवा दिया। अम्बा निराश हो कर वन में तपस्या करने चली गई।

विचित्रवीर्य को अपनी दोनों ही रानियों से उनकी कोई सन्तान नहीं हुई और वे क्षय रोग से पीड़ित हो कर मृत्यु को प्राप्त हो गये

अब कुल नाश होने के भय से माता सत्यवती ने एक दिन भीष्म से कहा, पुत्र इस वंश को नष्ट होने से बचाने के लिये आप ही कुछ करो। माता की बात सुन कर भीष्म ने कहा, माता मैं अपनी प्रतिज्ञा किसी भी स्थिति में भंग नहीं कर सकता। यह सुन कर माता सत्यवती को अत्यन्त दुःख हुआ। अचानक उन्हें अपने पुत्र वेदव्यास का स्मरण हो आया। स्मरण करते ही वेदव्यास वहाँ उपस्थित हो गये। सत्यवती उन्हें देख कर बोलीं, हे पुत्र तुम्हारे सभी भाई निःसन्तान ही स्वर्गवासी हो गये। मेरे वंश को नाश होने से बचा लो।

महर्षि वेदव्यास –

धृतराष्ट्र, पाण्डु और विदुर के जन्म की कथा - Story of Vidura's Birth
Story of Vidura’s Birth

वेदव्यास उनकी आज्ञा मान कर बोले, माता आप उन दोनों रानियों से कह दीजिये कि वे एक वर्ष तक नियम- व्रत का पालन करते रहें तभी उनको गर्भ धारण होगा। एक वर्ष व्यतीत हो जाने पर वेदव्यास सबसे पहले बड़ी रानी अम्बिका के पास गये। अम्बिका ने उनके तेज से डर कर अपने नेत्र बन्द कर लिये । वेदव्यास लौट कर माता से बोले, माता अम्बिका का बड़ा तेजस्वी पुत्र होगा किन्तु नेत्र बन्द करने के दोष के कारण वह अंधा होगा। सत्यवती को यह सुनकर अत्यन्त दुःख हुआ और उन्हों ने वेदव्यास को छोटी रानी अम्बालिका के पास भेजा।

Story of Vidura’s Birth –

अम्बालिका वेदव्यास को देख कर भय से पीली पड़ गई। उसके कक्ष से लौटने पर वेदव्यास ने सत्यवती से कहा, माता अम्बालिका के गर्भ से पाण्डु रोग से ग्रसित पुत्र होगा। इससे माता सत्यवती को और भी दुःख हुआ और उन्होंने बड़ी रानी अम्बालिका को पुनः वेदव्यास के पास जाने का आदेश दिया। इस बार बड़ी रानी ने स्वयं न जा कर अपनी दासी को वेदव्यास के पास भेज दिया। इस बार वेदव्यास ने माता सत्यवती के पास आ कर कहा, माते इस दासी के गर्भ से वेद-वेदान्त में पारंगत अत्यन्त नीतिवान पुत्र उत्पन्न होगा। इतना कह कर वेदव्यास तपस्या करने चले गये। समय आने पर अम्बिका के गर्भ से जन्मांध धृतराष्ट्र, अम्बालिका के गर्भ से पाण्डु रोग से ग्रसित पाण्डु तथा दासी के गर्भ से धर्मात्मा विदुर का जन्म हुआ।

 

 

Read more:-

महाभारत में पांडवो के जन्म की कथा – Story of Birth of Pandavas

 

धृतराष्ट्र, पाण्डु और विदुर के जन्म की कथा - Story of Vidura's Birth
Story of Birth of Pandavas

Leave a Reply