You are currently viewing आपातकालीन प्रावधान – Emergency Provisions

आपातकालीन प्रावधान – Emergency Provisions

क्या आप जानते है Emergency Provisions का मतलब होता है ? Emergency Provisions का मतलब होता है –आपातकालीन प्रावधान । आज हम आपको इस आर्टिकल के ज़रिये बता रहे है कि इस टॉपिक पूरा अर्थ और उद्देश्य क्या है तो बने रहिये हमारे साथ इस आर्टिकल में अंत तक और भी ज्यादा करंट अफेयर्स को इजी भाषा में जानने के लिए सब्स्क्रिबे करना ना भूलें।

आपातकालीन प्रावधान – Emergency Provisions

आपातकालीन प्रावधान - Emergency Provisions
Emergency Provisions

भारतीय संविधान में राष्ट्रपति को किसी भी असाधारण स्थिति को प्रभावी ढंग से पूरा करने में सक्षम बनाने के लिए विस्तृत आपातकालीन प्रावधान शामिल हैं। इन प्रावधानों को शामिल करने के पीछे तर्कसंगतता देश की संप्रभुता, एकता, अखंडता और सुरक्षा, लोकतांत्रिक राजनीतिक व्यवस्था और संविधान की रक्षा करना है।

 

संविधान तीन प्रकार की आपात स्थितियों की परिकल्पना करता है, अर्थात्:

(ए) युद्ध या बाहरी आक्रमण या सशस्त्र विद्रोह के आधार पर राष्ट्रीय आपातकाल (अनुच्छेद 352)
(बी) राज्यों में संवैधानिक मशीनरी की विफलता (अनुच्छेद 356) या केंद्र के निर्देशों का पालन करने में विफलता (अनुच्छेद 365) के आधार पर राज्य आपातकाल (राष्ट्रपति शासन)
(सी) वित्तीय स्थिरता या भारत की साख के लिए खतरे के आधार पर वित्तीय आपातकाल (अनुच्छेद 360) ।
आपातकाल के दौरान, केंद्र सरकार सर्व-शक्तिशाली हो जाती है और राज्य केंद्र के पूर्ण नियंत्रण में चले जाते हैं। यह संघीय ढांचे को औपचारिक बिना एकात्मक में परिवर्तित करता है
संविधान का संशोधन। संघीय (सामान्य समय के दौरान) से एकात्मक (आपातकाल के दौरान) में राजनीतिक प्रणाली का इस तरह का परिवर्तन भारतीय संविधान की एक अनूठी विशेषता है।

 

आपातकालीन प्रावधान – Emergency Provisions

 

आपातकालीन प्रावधान - Emergency Provisions
Emergency Provisions

 

राष्ट्रीय आपातकाल लगाने की प्रक्रिया

यह प्रधान मंत्री की अध्यक्षता वाली मंत्रिपरिषद द्वारा लिखित अनुरोध प्राप्त करने के बाद लगाया जाता है।

राष्ट्रीय आपातकाल घोषित करने के लिए राष्ट्रपति के पास सू मोटो शक्ति भी है।

राष्ट्रीय आपातकाल की घोषणा को घोषणा के भीतर संसद के दोनों सदनों द्वारा अनुमोदित किया जाना चाहिए।

यदि आपातकाल की घोषणा को दोनों सदनों का बहुमत प्राप्त नहीं होता है तो उस समय ही घोषणा रद्द कर दी जायेगी।

आपातकालीन संकल्प के अनुमोदन के लिए विशेष बहुमत की आवश्यकता होती है।

राष्ट्रीय आपातकाल की उद्घोषणा छह महीने की अवधि के लिए जारी रह सकती है।

राष्ट्रपति किसी भी समय इसे रद्द कर सकते हैं जब उन्हें लगता है कि स्थिति बेहतर हो रही है।

यदि आपातकाल की घोषणा के छह महीने बाद भी स्थिति बेहतर नहीं हो रही है तो आपातकाल को और जारी रखने के लिए संसद के किसी भी सदन द्वारा एक प्रस्ताव पारित किया जाना चाहिए।

इसके लिए सदन के कम से कम दो तिहाई सदस्यों के विशेष बहुमत की आवश्यकता होती है।

 

 

राष्ट्रीय आपातकाल के प्रभाव

राष्ट्रीय आपातकाल की घोषणा के बाद राज्य का पूर्ण नियंत्रण केंद्र सरकार के हाथों में होगा।

अनुच्छेद 19 के तहत उल्लिखित छह मौलिक अधिकार राष्ट्रीय आपातकाल के दौरान निलंबित कर दिए जाते हैं।

राष्ट्रपति मौलिक अधिकारों यानी अनुच्छेद 32 और 226 के प्रवर्तन के लिए अदालत जाने के अधिकार को भी निलंबित कर सकता है।

अगर किसी को लगता है कि राष्ट्रीय आपातकाल बिना किसी पर्याप्त कारण के घोषित किया गया है तो उसकी समीक्षा के प्रावधान हैं।

राष्ट्रीय आपातकाल की संवैधानिक वैधता को न्यायालय में चुनौती दी जा सकती है।

 

 

 

READ MORE:

भारतीय संविधान के स्वतंत्र निकाय – Independent Bodies of the Indian Constitution

आपातकालीन प्रावधान - Emergency Provisions
Independent Bodies of the Indian Constitution

 

Leave a Reply